प्राचार्य का सन्देश

बच्चे देश की आँख है तथा शिक्षा इन आँखों की ज्योति है | आज के नौनिहाल बच्चे कल देश का भविष्य बनते हैं | इन बच्चों के ढालने का दायित्व अभिभावक, शिक्षक तथा समाज पर है| इसमें से शिक्षक का योगदान सबसे महत्वपूर्ण हैं |

यहाँ हमारा दायित्व है कि आज के बदलते परिवेश तथा चुनौतीपूर्ण माहौल में बच्चों को तैयार करना ताकि वे एक उत्तम नागरिक के रूप में कल देश को एक महत्वपूर्ण स्थान पर स्थापित कर सके |

 

जय हिन्द.....

 

 

(आर. पी. द्विवेदी)

प्राचार्य

केंद्रीय विद्यालय नुआपडा